Education Speech Essay

Republic Day Speech 26 January 2023 in English and Hindi for Students

Republic Day Speech 26 January 2023 in English and Hindi for Students
Written by Chetan Darji

Are you searching for – Republic Day Speech 26 January 2023 in English and Hindi for Students

Then you are at Right Place.

The Complete and Official Information of Republic Day Speech 26 January 2023 in English and Hindi for Students.

Republic Day Speech 26 January 2023 in English for Students

Republic Day Speech 26 January 2023 in English and Hindi for Students

“Republic of India has respect in the whole world,

Its wonderful glory has been blooming for decades,

Gave respect to all religions and then created history,

That’s why every countryman has faith in it.”

With this, good morning to respected Principal, teachers, parents and my dear colleagues, and hearty congratulations to all of us dear countrymen of the beloved country India on Republic Day. Republic Day is the national festival of India

I, Sonu, a class 11th student, am feeling proud today that I have got this opportunity to speak on stage. Today our constitution has completed 74 years since it came into existence and on this occasion we all are celebrating our dynamic democracy and spirit of national unity. Dear friends, our constitution is our self-respect, India’s pride, India’s identity. After a long struggle, India got independence on August 15, 1947, but at that time the country did not have its own constitution. After that, after a lot of deliberations in the Constituent Assembly, the Drafting Committee presented the draft of the Constitution under the chairmanship of Dr. Babasaheb Ambedkar.

The Constituent Assembly adopted it on 26 November 1949 and it was officially implemented on 26 January 1950. Dear friends, all the rules and regulations were made in the constitution which were implemented smoothly and on this day our India became a Democratic Republic.

Republic day. , , Republic means rule of the people by the people. Means the people themselves can choose their leader. Dear Friends, We have come a long way since then, today India stands as a thriving democracy with a strong and diverse economy, a rich cultural heritage and a vibrant civil society. Today we remember and pay tribute to all the freedom fighters who fought for our freedom and sacrificed their lives for a free and democratic India.

We remember the founding fathers of our Constitution, who drafted a Constitution that has served as a guiding light for our nation and has stood the test of time. Come, on the occasion of Republic Day, let us take the life of our commitment to uphold the values and principles of our Constitution. Dear friends, the future of our country is in our hands, it is our duty to participate in the democratic process, contribute to the development of our society. Let’s celebrate the achievements of the country and feel proud to be a part of this great nation. , , ‘Not just waving the flag, it is not enough for the country, do not forget the memories, take forward the words of those who were sacrificed, do not spend your life for yourself but for the country’..

With these feelings, I pause my words.

Jai Hind Jai Bharat

Republic Day Speech 26 January 2023 in Hindi for Students

” भारत के गणतंत्र का है सरे जग में मान,

दशको से खिल रही है उसकी अद्भुत शान,

सब धर्मो को दिया मान फिर रचा इतिहास,

इसीलिए तो हर देशवासी को इसमें है विश्वास”

इसी के साथ आदरणीय प्रधानाचार्य जी, शिक्षकगण , अभिभावकगण एवं मेरे प्रिय साथियों सुप्रभात, और प्यारे देश भारत के हम सभी प्यारे देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई | गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रिय पर्व है

में सोनु कक्षा ११वि की छात्रा अपने आपको आज गौरवांवित महसूस कर रही हु की मुझे मंच पर बोलने का ये सुअवसर मिला है | आज हमारे सविंधान को अस्तित्व में आये 74 वर्ष पुरे हो गए है और इस उपलक्ष पर हम सभी अपने गतिशील लोकतंत्र तथा रास्ट्रीय एकता की भावना का उत्सव मन रहे है | प्रिय मित्रो, हमारा सविधान, हमारा स्वाभिमान है, भारत का गौरव है, भारत की पहचान है | लम्बे संधर्ष के बाद 15 अगस्त, 1947 में भारत को आजादी मिली थी लेकिन उस समय देश का अपना कोई सविंधान नहीं था | उसके बाद सविंधान सभा में काफ विचार विर्मस के बाद प्रारूप समिति ने डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की अध्यक्षता में सविंधान का प्रारूप प्रस्तुत किया |

सविंधान सभा ने 26 नवम्बर 1949 में इसे अपनाया और इसे आधिकारिक रूप से 26 जनवरी, 1950 को लागु किया गया | प्रिय मित्रो, संविधान में सभी नियम, कानून बनाये गए जिन्हें सुचारू रूप से लागु किया गया और आज ही के दिन हमारा भारत डेमोक्रेटिक रिपब्लिक बना था |

गणतंत्र दिवस. . . गणतंत्र का अर्थ होता है जनता का जनता के द्वारा शासन | यानि की जनता खुद ही अपने नेता का चयन कर सकती है | प्रिय मित्रो, तब से अबतक हम एक लम्बा सफ़र तय कर चुके है, आज भारत एक मजबूत और विविध अर्थव्यवस्था, एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और एक जिवंत नागरिक समाज के साथ एक संपन लोकतंत्र के रूप में खड़ा है | आज हम उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते है उन्हें श्रधांजलि देते है जिन्होंने हमारी स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी और एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक भारत के लिए अपने प्राणों की आहुति दी |

हम अपने सविंधान के निर्माताओ को याद करते है, जिन्होंने एक ऐसा सविंधान तैयार किया, जिसने हमारे राष्ट्र के लिए एक मार्गदर्शक प्रकाश के रूप में काम किया है और समय की कसौटी पर खरा उतरा है | आइये गणतंत्र दिवस के मौके पर हम अपने सविंधान के मूल्यों और सिधान्तों को बनाये रखने के लिए अपनी प्रतिबद्धता का प्राण ले | प्रिय मित्रो, हमारे देश का भाविह्य हमारे हाथ में है यह हमारा कर्तव्य है की हम लोकतान्त्रिक प्रक्रिया में भाग ले, हमारे समाज के विकास में योगदान दे | आइये देश की उप्लाब्ध्हियो का जश्न मानते है और इस महँ राष्ट्र का हिस्सा होने पर गर्व महसूस करते है |. . . ‘नहीं सिर्फ झंडे लहराना, यह काफी नहीं है वतन पर, यादो को नहीं भुलाना, जो कुर्बान हुए उनके लफ्जो को आगे बढ़ाना, खुद के लिए नहीं जिंदगी वतन के लिए लुटाना’ ..

इनही भावनाओ के साथ में अपने शब्दों को विराम देता हु |

जय हिन्द, जय भारत

About the author

Chetan Darji

Hi, My name is Chetan Darji , and I am the owner and Founder of this website. I am 24 years old, Gujarat-based (India) blogger.
I started this blog on 20th January 2019.

Leave a Comment

Discover more from Stud Mentor - Where Learning Begins

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue Reading