Trendy

Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti, Essay, Competition 2021

netaji subhash chandra bose celebration
Written by Chetan Darji
Rate this post

Subhash Chandra bose Why in News

  • The Prime Minister has paid tributes to Netaji Subhash Chandra Bose on his 125rd birth anniversary.
  • Subhas Chandra Bose was born on 23rd January 1897, in Cuttack, Orissa Division, Bengal Province, to Prabhavati Dutt Bose and Janakinath Bose.

Subhash Chandra Bose

  • Netaji Subhas Chandra Bose (23 January 1897 – 18 August 1945) is one of the most celebrated freedom fighters of India.
  • In 1942, he earned the title ‘Netaji’, in Germany by the Indian soldiers of the Azad Hind Fauj.
  • Bose is credited with the very famous slogan, “Give me blood, and I shall give you freedom!” as well as “Jai Hind”.
  • He is also credited to be the first man to call Mahatma Gandhi “Father of the Nation”, in his address from Singapore.

Timeline

  • In 1919, Bose headed to London to give the Indian Civil Services (ICS) examination and he was selected. Bose, however, resigned from Civil Services as he believed he could not side with the British.
  • In 1921, Bose worked under Chittaranjan Das, a powerful politician in Bengal. He worked as the editor for Das’s newspaper, Forward, and later started his own newspaper, Swaraj.
  • In 1923, Bose was elected the President of the All India Youth Congress and also the Secretary of Bengal State Congress.
  • During the mid-1930s Bose travelled in Europe. He researched and wrote the first part of his book, The Indian Struggle, which covered the country’s independence movement in the years 1920–1934.
  • After his return, Bose took over as the elected President of Indian National Congress in 1938 (Haripur) and stood for unqualified Swaraj (self-governance) and the use of force against the British which then combated against Mahatma Gandhi and his views.
  • Bose was re-elected in 1939 (Tripuri) but soon resigned from the presidency and formed the All India Forward Bloc, a faction within the Congress which aimed at consolidating the political left.
  • In 1943, he travelled to Japan and took leadership of the Indian Independence Movement in East Asia. With Japanese aid and influence, he took the leadership of a trained army of about 40,000 troops in Japanese-occupied Southeast Asia known as the Indian National Army.
    • The INA was first formed under Mohan Singh and Japanese Major Iwaichi Fujiwara and comprised Indian prisoners of war of the British-Indian Army captured by Japan in the Malayan (present-day Malaysia) campaign and at Singapore.
  • The troops of the INA were under the aegis of a provisional government, the Azad Hind Government, which came to produce its own currency, postage stamps, court and civil code, and was recognised by nine Axis states.
  • In 1945, the British Indian Army retaliated to the capture of Manipur, Kohima and Imphal by INA and killed almost half of the Japanese forces and the entire participating INA contingent.
  • Bose escaped to Manchuria seeking a future in the Soviet Union.
  • He is said to have died in 1945 when his plane crashed in Taiwan. However, there are still many conspiracy theories regarding his death.

नेताजी सुभाषचंद्र बोस का 125वां जन्मदिन भव्य तरीके से मनाएगी मोदी सरकार, बनाई समिति

Modi-Netaji- 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है जो नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के 125 वें जन्मदिन को भव्य रूप से मनाने की रूपरेखा रखेगी.

बंगाल की राजनीति को ध्यान में रखते हुए इस बार नेता जी सुभाष चन्द्र बोस सभी पार्टियों के लिए महत्वपूर्ण होते जा रहे हैं. इस वर्ष 23 जनवरी को देशभर में नेता जी का 125 वां जन्मदिन मनाया जाएगा. लेकिन भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार इसे अधिक भव्य समारोह बनाना चाह रही है, इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है जो नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के 125 वें जन्मदिन को भव्य रूप से मनाने की रूपरेखा को लेकर निर्देश देगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनाई गई इस समिति के संबंध में एक गजट नोटिफिकेशन शनिवार के दिन जारी कर दिया गया है.

ये उच्चस्तरीय समिति नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के 125 वें जन्मदिन के मौके पर वर्षभर मनाए जाने वाले कार्यक्रमों को लेकर निर्णय लेगी, जो 23 जनवरी, 2021 से शुरू होने वाले हैं. इस समिति में 85 सदस्य हैं, जिसमें केंद्रीय मंत्री, बंगाल से संसद के सदस्य, कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री, इतिहासकार और अन्य प्रतिष्ठित नागरिक शामिल हैं.

Modi like Netaji 2021

इनमें प्रमुख रूप से गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और एचडी देवगौड़ा, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला. इनके अलावा कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और अधीर रंजन चौधरी भी शामिल हैं.

इसके अलावा गौर करने वाली बात ये है कि शुभेंदु अधिकारी और सांसद सुनील मंडल, जिन्होंने हाल ही में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी की तरफ रुख किया था, उन्हें भी इस समिति में जगह मिली है. केंद्र ने इस समिति में नेताजी के परिवार के सदस्यों को भी नियुक्त किया है. इनमें उनकी बेटी अनीता बोस, भतीजे अर्धेंदु बोस, पोते चंद्र कुमार बोस और पोती रेणुका मालेकर शामिल हैं.

सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज से जुड़े प्रतिष्ठित व्यक्ति भी इस समिति में हैं. इसमें नेताजी सुभाष चंद्र बोस INA ट्रस्ट के अध्यक्ष, ब्रिगेडियर (अवकाशप्राप्त) आर.एस. छिकारा शामिल हैं. इसके अलावा अभिनेत्री काजल, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली और प्रसिद्ध संगीतकार एआर रहमान भी इस उच्च-स्तरीय समिति के सदस्य हैं.

ये समिति दिल्ली, कोलकाता, नेताजी सुभाषचंद्र बोस और आजाद हिन्द फौज से जुड़े स्थानों जो देश और विदेश में फैले हुए हैं पर होने वाले कार्यक्रमों को लेकर निर्देश देगी.

Quiz Competition By Government

Quiz Competition on Netaji Subhashchandra Bose Jayanti

Official Website for Quiz : https://www.mygov.in/

Quiz will start Tomorrow so take part and get Certificate 👍😊

About the author

Chetan Darji

Hi, My name is Chetan Darji , and I am the owner and Founder of this website. I am 24 years old, Gujarat-based (India) blogger.
I started this blog on 20th January 2019.

2 Comments

Leave a Comment